निदा फ़ाज़ली शायरी – एक महफ़िल में कई महफ़िलें

एक महफ़िल में कई महफ़िलें होती हैं शरीक
जिस को भी पास से देखोगे अकेला होगा – निदा फ़ाज़ली