निदा फ़ाज़ली शायरी – घर से मस्जिद है बहुत

घर से मस्जिद है बहुत दूर चलो यूं कर लें
किसी रोते हुए बच्चे को हँसाया जाए। – निदा फ़ाज़ली