निदा फ़ाज़ली शायरी – ज़रूरी क्या हर एक महफ़िल

ज़रूरी क्या हर एक महफ़िल में आना
तक़ल्लुफ़ की रवादारी से बचिये – निदा फ़ाज़ली