निदा फ़ाज़ली शायरी – जाने कब चाँद बिखर जाये

जाने कब चाँद बिखर जाये जंगल में…
घर कि चौखट पे कोई दीप जलाते रहिये…!!! – निदा फ़ाज़ली