निदा फ़ाज़ली शायरी – दिन सलीके से उगा

दिन सलीके से उगा, रात ठिकाने से रही
दोस्ती अपनी भी कुछ रोज़ ज़माने से रही – निदा फ़ाज़ली