निदा फ़ाज़ली शायरी – हमने भी सोकर देखा है

हमने भी सोकर देखा है नए-पुराने शहरों में
जैसा भी है अपने घर का बिस्तर अच्छा लगता है – निदा फ़ाज़ली