निदा फ़ाज़ली शायरी – हर एक बस्ती बदलती है

हर एक बस्ती बदलती है रंग रूप कई
जहाँ भी सुब्ह गुज़ारो उधर ही शाम करो – निदा फ़ाज़ली