परवीन शाकिर शायरी – अंधेरे में थे जब तलक

अंधेरे में थे जब तलक ज़माना साज़-गार था
चराग़ क्या जला दिया हवा ही और हो गई – परवीन शाकिर