परवीन शाकिर शायरी – आज तो उस पे ठहरती

आज तो उस पे ठहरती ही न थी आँख ज़रा!
उसके जाते ही नज़र मैंने उतारी उसकी – परवीन शाकिर