परवीन शाकिर शायरी – उस ने जलती हुई पेशानी

उस ने जलती हुई पेशानी पे जब हाथ रखा
रूह तक आ गई तासीर मसीहाई की – परवीन शाकिर