परवीन शाकिर शायरी – कल रात जो ईंधन के

कल रात जो ईंधन के लिए कट के गिरा है
चिड़ियों को बहुत प्यार था उस बूढ़े शजर से – परवीन शाकिर