परवीन शाकिर शायरी – तुझ को मेरी न मुझ

तुझ को मेरी न मुझ को तेरी ख़बर जाएगी
ईद अब के भी दबे पावँ गुज़र जाएगी …. – परवीन शाकिर