परवीन शाकिर शायरी – थक गया है दिल वहशी

थक गया है दिल वहशी मेरा फरियाद से भी
जी बहलता नहीं ऐ दोस्त तेरी याद से भी – परवीन शाकिर