परवीन शाकिर शायरी – नया दर्द एक दिल में

नया दर्द एक दिल में जगा कर चला गया
कल फिर वो मेरे शहर में आ कर चला गया – परवीन शाकिर