परवीन शाकिर शायरी – बस ये हुआ कि उस

बस ये हुआ कि उस ने तकल्लुफ़ से बात की
और हम ने रोते रोते दुपट्टे भिगो लिए – परवीन शाकिर