परवीन शाकिर शायरी – रस्ता भी कठिन धूप में

रस्ता भी कठिन धूप में शिद्दत भी बहुत थी
साए से मगर उस को मोहब्बत भी बहुत थी – परवीन शाकिर