परवीन शाकिर शायरी – रास्तों का इल्म था न

रास्तों का इल्म था न हम को सम्तों की ख़बर
शहर-ए-ना-मालूम कि चाहत मगर करते रहे – परवीन शाकिर