परवीन शाकिर शायरी – वो तो ख़ुशबू है हवाओं

वो तो ख़ुशबू है हवाओं में बिखर जायेगा
मसला फूल का है फूल किधर जायेगा – परवीन शाकिर