परवीन शाकिर शायरी – हवा ​चली तो नयी बारिशें

हवा ​चली तो नयी बारिशें भी साथ आयीं
​ज़मीं के चेहरे पे आया निखार का मौसम – परवीन शाकिर