परवीन शाकिर शायरी – हारने में इक अना की

हारने में इक अना की बात थी
जीत जाने में ख़सारा और है – परवीन शाकिर