फिराक गोरखपुरी शायरी – अब ना खुशी की है

अब ना खुशी की है खुशी,
गम का भी अब तो गम नही. – फिराक गोरखपुरी