फिराक गोरखपुरी शायरी – अभी कुछ और हो इन्सान

अभी कुछ और हो इन्सान का लहू पानी
अभी हयात के चेहरे पे आब-ओ-ताब नहीं – फिराक गोरखपुरी