फिराक गोरखपुरी शायरी – आवाज दे कर छुप गई

आवाज दे कर छुप गई हर बार जिंदगी,
हम ऐसे सादा दिल थे हर बार आ गए….!! – फिराक गोरखपुरी