फिराक गोरखपुरी शायरी – कोई अफ़साना छेड़ तन्हाई…

कोई अफ़साना छेड़ तन्हाई…
रात कटती नहीं जुदाई की.. – फिराक गोरखपुरी