फिराक गोरखपुरी शायरी – न कोई वादा न यकीन

न कोई वादा न यकीन न उम्मीद
मगर हमने तो इंतजार करना था – फिराक गोरखपुरी