Arz Kiya Hai 4 U

Best Hindi Sher O Shayari Collection

फिराक गोरखपुरी शायरी – बदगुमाँ होके मिल ए दोस्त

बदगुमाँ होके मिल ए दोस्त जो मिलना है तझे..
यूँ झिझकते हुए मिलना कोई मिलना भी नहीं… – फिराक गोरखपुरी

Updated: July 14, 2017 — 4:54 pm
loading...
Arj Kiya Hai 4 U © 2017