फिराक गोरखपुरी शायरी – बहुत पहले से उन कदमों

बहुत पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं
तुझे, ऐ जिंदगी, हम दूर से पहचान लेते हैं – फिराक गोरखपुरी