फैज अहमद फैज शायरी – गुलों में रंग भरे बादे-नौबहार

गुलों में रंग भरे, बादे-नौबहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले – फैज अहमद फैज