फैज अहमद फैज शायरी – नही निगाह में मंजिल तो

नही निगाह में मंजिल तो जुस्तुजू ही सही
नही विसाल मयस्सर तो आरजू ही सही। – फैज अहमद फैज