फैज अहमद फैज शायरी – बिखरी एक बार तो हाथ

बिखरी एक बार तो हाथ आई है कब मौजे शमीम
दिलसे निकली है तो कब लब पे फूगां ठहरी है – फैज अहमद फैज