फैज अहमद फैज शायरी – वीरां है मैकदा खुमो-सागर उदास

वीरां है मैकदा खुमो-सागर उदास हैं,
तुम क्या गये कि रूठ गये दिन बहार के। – फैज अहमद फैज