बशीर बद्र शायरी – इसी लिए तो यहाँ अब

इसी लिए तो यहाँ अब भी अजनबी हूँ मैं
तमाम लोग फ़रिश्ते हैं आदमी हूँ मैं – बशीर बद्र