बशीर बद्र शायरी – उदासियों में मुझे रात भर

उदासियों में मुझे रात भर जलाओगे
मसर्रतों में सरे शाम ही बुझा दोगे – बशीर बद्र