बशीर बद्र शायरी – गुलाब किसलिए लब को सजाए

गुलाब किसलिए लब को सजाए सुर्ख़ी से
हिरन की आँख में काजल की है ज़रूरत क्या – बशीर बद्र