बशीर बद्र शायरी – घरों पे नाम थे नामों

घरों पे नाम थे नामों के साथ ओहदे थे
बहुत तलाश किया कोई आदमी न मिला… – बशीर बद्र