बशीर बद्र शायरी – चराग़ों को आँखों में महफ़ूज़

चराग़ों को आँखों में महफ़ूज़ रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी – बशीर बद्र