बशीर बद्र शायरी – चाहे जितने चराग़ गुल कर

चाहे जितने चराग़ गुल कर दो
दिल अगर है तो रौशनी होगी – बशीर बद्र