बशीर बद्र शायरी – ज़मीन माँ भी है महबूब

ज़मीन माँ भी है, महबूब भी है, बेटी भी
जमीन छोड़के जाऊँ कोई सवाल नहीँ – बशीर बद्र