बशीर बद्र शायरी – जिन पर लिखी हुई थी

जिन पर लिखी हुई थी मोहब्बत की दास्ताँ
वो चाक चाक पुरज़े हवा में बिखर गए – बशीर बद्र