बशीर बद्र शायरी – तन्हाइयों ने तोड़ दी हम

तन्हाइयों ने तोड़ दी हम दोनों की अना
आईना बात करने पे मजबूर हो गया – बशीर बद्र