बशीर बद्र शायरी – परेशाँ हो तुम भी परेशाँ

परेशाँ हो तुम भी परेशाँ हूँ मैं भी
चलो मय-कदे में वहीं बात होगी – बशीर बद्र