बशीर बद्र शायरी – पहली बार नज़रों ने चाँद

पहली बार नज़रों ने चाँद बोलते देखा
हम जवाब क्या देते खो गए सवालों में – बशीर बद्र