बशीर बद्र शायरी – बारिशें छत पे खुली जगहों

बारिशें छत पे खुली जगहों पे होती हैं मगर
ग़म वो सावन है जो इन कमरों के अन्दर बरसे – बशीर बद्र