बशीर बद्र शायरी – मुझे मालूम है उस का

मुझे मालूम है उस का ठिकाना फिर कहाँ होगा
परिंदा आसमाँ छूने में जब नाक़ाम हो जाये – बशीर बद्र