बशीर बद्र शायरी – मुहब्बत अदावत वफ़ा बेरुख़ी

मुहब्बत अदावत वफ़ा बेरुख़ी
किराये के घर थे बदलते रहे – बशीर बद्र