बशीर बद्र शायरी – मैं चाहता हूँ कि तुम

मैं चाहता हूँ कि तुम ही मुझे इजाज़त दो
तुम्हारी तरह से कोई गले लगाए मुझे – बशीर बद्र