बशीर बद्र शायरी – मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती

मोहब्बतों में दिखावे की दोस्ती न मिला
अगर गले नहीं मिलता तो हाथ भी न मिला – बशीर बद्र