बशीर बद्र शायरी – मोहब्बत एक ख़ुशबू है हमेशा

मोहब्बत एक ख़ुशबू है हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तन्हाई में भी तन्हा नहीं रहता – बशीर बद्र