बशीर बद्र शायरी – यहाँ लिबास की क़ीमत है

यहाँ लिबास की क़ीमत है आदमी की नहीं
मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे – बशीर बद्र