बशीर बद्र शायरी – ये सोच लो अब आख़िरी

ये सोच लो अब आख़िरी साया है मुहब्बत,
इस दर से उठोगे तो कोई दर न मिलेगा.. – बशीर बद्र